computer network kya hai

Computer Network क्या है ? Computer Network के प्रकार

Computer Network क्या है ?

एक computer नेटवर्क या डाटा नेटवर्क, एक दूरसंचार नेटवर्क है जो computer डाटा का आदान प्रदान करने की अनुमति देता है | computer नेटवर्क में, computing उपकरणों के द्वारा एक दुसरे के साथ नेटवर्क डेटा exchange, नेटवर्क लिंक के साथ कर सकते है | नोड्स के बीच कनेक्शन या तो केबल media या वायरलेस media media का उपयोग कर स्थापित होता है |

computer network kya hai

दुसरे शब्दों में, एक computer नेटवर्क मूल रूप से संसाधनों को साझा करने के प्रयोजन के लिए एक साथ जुड़े हुए computer का एक सेट है | आज “इन्टरनेट” कनेक्शन साझा करने के लिए सबसे आम संसाधन है | अन्य साझा संसाधन में शामिल है प्रिंटर या एक फाइल सर्वर | इन्टरनेट को भी एक computer नेटवर्क के रूप में माना जा सकता है |

Computer Network की मूल बाते

computer networking के प्रमुख बुनियादी घटकों को निम्न रूप में वग्रिकृत किया जा सकता है |

  1. नेटवर्क कनेक्शन या लिंक
  2. नेटवर्क प्रोटोकॉल- networking की लेयर्स
  3. नेटवर्क के प्रकार
  4. नेटवर्क की टोपोलॉजी
  5. नेटवर्क की रणनीति
  6. नेटवर्क का संगठनात्मक स्कोप
  7. नेटवर्क बैंडविड्थ वर्गीकरण

Network connection / links –

ट्रांसमिशन media जो एक computer नेटवर्क के रूप में उपकरणों को जोड़ने के लिए प्रयोग किया जाता है | जो मुख्य रूप से बिजली की केबल, ओप्टिकल फाइबर और रेडियो तरंगो के रूप में शामिल है |
मुख्य प्रकारों को निचे सूचीबद्ध किया जा रहा है |

  • लोकल area नेटवर्क प्रोद्योगिकी में व्यापक रूप से जो प्रसारण media इस्तेमाल किया जाता है जिसे सामूहिक रूप से इथरनेट के रूप में माना जाता है media और प्रोटोकॉल मनको को इथरनेट पर नेटवर्क उपकरणों के बीच संचार को IEEE 802.3 के द्वारा परिभाषित करते है | इथरनेट दोनों तांबा और फाइबर केबल पर डेटा स्थान्तरित करता है |
  • वायरलेस लेन मानक रेडियो तरंगो का उपयोग करते है, या दुसरे संचरण माध्यम के रूप में अवरक्त संकेतो का उपयोग करते है |
  • पॉवर लाइन संचार में डेटा संचारित करने के लिए, भवन की बिजली की केबल बिछाने के लिए उपयोग किया जाता है

वायरलेस लिंक –

आधुनिक युग ने जिज्ञासु प्रवर्ती को जन्म दिया है आम तौर पर इन्सान हर समय ऑनलाइन होना चाहते है इन mobile उपयोगकर्ताओ के लिए, पारम्परिक वायर media किसी काम के नहीं है वह स्थलीय संचार से सिमित नहीं होना चाहते है, इसलिए वह अपने laptop, पामटॉप, mobile फ़ोन इत्यादि के लिए डाटा हिट की जरुरत महसूस करते है | ऐसे सभी उपयोग्क्रताओ के लिए बेतार संचार ही एकमात्र उपाय है |

Electromagnatic स्पेक्ट्रम के उपयोग –

जब इलेक्ट्रान चलते है वे विधुत चुम्बकीय तरंगे उत्पन्न करते है जिनका संचार आसमान में हो सकता है जब उपयुक्त आकार के एक एंटीना को बिजली के circuit से जोड़ा जाता है तब EM वेव्स कुशलता से प्रसारित होती है और कुछ दुरी पर एक रिसीवर के द्वारा प्राप्त की जा सकती है यह सभी बेतार संचार के बुनियादी सिद्धांत है |

स्थलीय माइक्रोवेव:

रेडियो, माइक्रोवेव, स्पेक्ट्रम के अवरक्त और द्रश्य प्रकाश भाग, सभी का सुचना प्रसारण के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है | परबेंगनी प्रकाश, एक्स रे और गामा किरणे और भी बेहतर है, लेकिन उनके जटिल प्रकृति और प्राणियों को नुकसान के कारण इनका प्रयोग नहीं किया जाता है |
वायरलेस लिंक को विभिन्न प्रकारों के बारे में विस्तार से निचे समझाया गया है |

ब्लूटूथ:

ब्लूटूथ कम दुरी पर डेटा का आदान प्रदान और mobile उपकरणों से 2.4 से 2,485 गीगा बैंड में लघु तरंगदेध्र्य U.H.F रेडियो तरंगो का उपयोग, और personal area नेटवर्क के निर्माण के लिए, एक वायरलेस तकनीक मानक है | यह कई उपकरणों को कनेक्ट कर सकता है |
ब्लूटूथ मूल रूप से, कम बिजली की खपत के लिए तैयार प्रत्येक device में कम लागत वाली ट्रांसिवर मिक्रोचिप्स पर आधारित एक लघु श्रखला के साथ एक मानक वायर – रिप्लेसमेंट संचार प्रोटोकॉल है क्यूंकि उपकरण, एक रेडिओ संचार प्रणाली का उपयोग करते है, वे एक दुसरे की द्रष्टि से लाइन of साईट में होने की जरुरत नहीं है रेंज बिजली – वर्ग पर निर्भर है , लेकिन प्रभावी रेंज व्यव्हार में भिन्न है |

WI-FI

वाई – फाई एक लोकल area वायरलेस computer networking तकनीक है जिसमे इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को नेटवर्क से कनेक्ट करने के लिए, मुख्य रूप से 2.4 गीगाहर्ट्ज़ (12cm) UHF और 5 गीगाहर्ट्ज़ (6सेमी) SHF रेडिओ बैंड का उपयोग होता है | वाई-फाई का उपयोग करने की अनुमति देता है |

वाई-फाई एलायंश | किसी भी “वायरलेस लोकल area नेटवर्क” (WLAN) उत्पाद इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक्स engineers संसथान (IEEE) 802.11 मानको के आधार के रुप में वाई-फाई को परिभाषित करता है |

बहुत से उपकरण वाई-फाई का उपयोग कर सकते है | जैसे personal computer, video game console, smartphone,digital camera, tablet computer इत्यादि | यह इस तरह के एक वायरलेस नेटवर्क का हॉटस्पॉट बिंदु के माध्यम से इन्टरनेट से कनेक्ट कर सकते है इस तरह का एक हॉटस्पॉट की range घर में 20 meter तथा बाहर इससे अधिक हो सकती है | हॉटस्पॉट कवरेज range भिन्न हो सकते है |

GPRS(General Packet Radio Service)

GPRS एक डेटा सेवा प्रोद्योगिकी को सक्षम बनता है | जो की 2 जी दूरसंचार नेटवर्क, voice कॉल के अलावा अन्य सेवाए प्रदान करता है | इन सेवाओ में ईमेल का उपयोग, मल्टीमीडिया सन्देश, और इन्टरनेट के लिए एक हद तक सीमित उपयोग शामिल है यह ज्यादातर पुराने mobile सेट द्वारा इस्तेमाल किया गया था | GPRS स्थलीय सेलुलर टावरो के साथ संचार करता है |

GPS (Global Positioning System)

GPS navigation के द्वारा आपका फ़ोन एक वायरलेस प्रदाता के नेटवर्क के माध्यम से आपका स्थान प्राप्त करने के लिए उपयोग करता है | GPS है जो स्थान निर्धारित करने के लिए उपग्रहों से समय का उपयोग करता है | इसका GSM या GPRS से कोई सम्बन्ध नहीं है | A-GPS GSM /GPRS के माध्यम से प्रदान किये mobile डेटा का उपयोग जल्दी से अपनी स्थिति की गणना करने के लिए कर सकता है | जो की सीधे जीपीएस उपग्रहों का उपयोग करने पर 1 से 2 मिनट में प्राप्त होता है |

WIMAX

यह 30 से 40 मेगाबिट प्रति second डेटा रेट प्रदान करने के लिए डिजाईन किया गया बेतार संचार मानको का एक परिवार है 2011 के बाद update होकर तय स्टैसनो के लिए 1 Gbit / s तक उपलब्ध करने में समर्थ है |
wimax एक मानक- आधारित केबल और DSL के एक विकल्प के रूप में लास्ट माइल वायरलेस ब्रांडेड access के वितरण की सक्षम तकनीक है |

Leave a Comment